UPI भुगतान में पेटीएम बैंक सबसे बेहतर

557

पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) ने अधिकांश प्रमुख बैंकिंग क्षेत्र के दिग्गजों की तुलना में यूपीआई लेनदेन के मामले में उच्च सफलता दर हासिल की है। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि पीपीबीएल यूपीआई लेनदेन के मामले में एक्सिस बैंक, यस बैंक, एचडीएफसी बैंक और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) से भी आगे है।

जनवरी 2020 में मंत्रालय द्वारा जारी स्कोरकार्ड के अनुसार, पीपीबीएल में 0.02 फीसदी की सबसे कम तकनीकी गिरावट दर्ज की गई है, जबकि अन्य प्रमुख बैंकिंग दिग्गजों की तकनीकी गिरावट दर काफी रही है, जोकि लगभग एक फीसदी है।

यहां पर तकनीकी गिरावट का मतलब यह है कि किसी भी तकनीकी खामी के कारण कितने यूपीआई लेनदेन विफल रहते हैं।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने कहा कि यह प्रौद्योगिकी अवसंरचना की श्रेष्ठता की पुष्टि करता है, जो इसकी सफलता का प्रमुख कारण रहा है।

पेटीएम पेमेंट्स बैंक के एमडी और सीईओ सतीश गुप्ता ने सोमवार को एक बयान में कहा, “हमारी प्रौद्योगिकी संरचना वैश्विक बैंकिंग उद्योग में सर्वश्रेष्ठ में से एक है और यह इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मासिक स्कोरकार्ड में सबसे अच्छी तरह से साबित हुआ है।”

Read More: कोरोना को लेकर वैज्ञानिकों की चेतावनी, 2 साल तक ना हटाएं पाबंदियां

पीपीबीएल ने एसबीआई, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक सहित कई प्रमुख बैंकों से आगे बढ़कर जनवरी के महीने में 16.9 करोड़ यूपीआई लेनदेन किए।

जहां विभिन्न बैंक यूपीआई लेनदेन को ज्यादातर तीसरे पक्ष (थर्ड पार्टी) ऐप द्वारा संचालित करते हैं, वहीं पीपीबीएल देश का एकमात्र बैंक है, जो खुद की प्रणाली से यूपीआई लेनदेन को व्यवस्थित करता है।

पीपीबीएल के पास पहले से ही अपने प्लेटफॉर्म पर 10 करोड़ से अधिक यूपीआई हैंडल हैं और यह ऑफलाइन रिटेल स्टोर्स पर भी यूपीआई भुगतान के मामले में तेजी लाने में सफल रहा है।

कंपनी की सफलता पर गर्व करते हुए गुप्ता ने कहा, “हमारी तकनीकी टीम हमारे उपयोगकर्ताओं को एक सहज और कुशल अनुभव प्रदान करने के लिए 24 घंटे काम करती है। हम अपने सहयोगियों के साथ एक विश्वसनीय और लंबे समय तक चलने वाला संबंध बनाते हैं।”

पीपीबीएल भारत का सबसे सफल भुगतान बैंक और धनस्रोतों (फंडिंग सोर्स) का एक व्यापक मंच बना हुआ है। 10 करोड़ यूपीआई हैंडल के अलावा मंच पर तीन करोड़ वॉलेट, 22 करोड़ सेव्ड कार्ड और 5.5 करोड़ बैंक खाते हैं। (आईएएनएस)