DL बनवाने और RC रिन्यूअल में जरूरी होगा आधार

583
ड्राइविंग लाइसेंस

DL बनवाने और RC रिन्यूअल में जरूरी होगा आधार

हाल ही में आईटी मिनिस्ट्री की तरफ से एक अधिसूचना जारी की गई है जो आधार प्रमाणन के नियमों को लेकर है। इस अधिसूचना के मुताबिक अब बायोमेट्रिक प्रमाणन का इस्तेमाल करके ऑनलाइन सेवाओं का लाभ लिया जा सकेगा। इन सेवाओं में लर्निंग लाइसेंस, ड्राइविंग लाइसेंस का रिन्कायूअल, वाहनों का पंजीकरण और दस्तावेजों में पता बदलने जैसी सेवाएं शामिल हैं।

सड़क परिवहन मंत्रालय ने गुड गवर्नेंस (सोशल वेलफेयर, इनोवेशन, नॉलेज) रूल्स के लिए आधार प्रमाणीकरण के दायरे में डीएल और आरसी संबंधी ऑनलाइन सेवाओं को लाने के लिए आईटी मंत्रालय को लिखा है, जिसे 5 अगस्त को अधिसूचित किया गया था।

दरअसल परिवहन मंत्रालय के इस प्रस्ताव का मकसद नकली या कई डीएल और ड्राइवरों और वाहन मालिकों द्वारा प्राप्त अन्य नकली दस्तावेजों को हटाना है। इस नियम से लोगों को एक और फायदा मिलेगा कि, उन्हें अब सेवाओं का लाभ लेने के लिए परिवहन विभाग के दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।

आधार प्रमाणीकरण के उद्देश्य को स्पष्ट करते हुए, नियम कहते हैं, “केंद्र सरकार सुशासन के हित में संस्थाओं से अनुरोध करके, सार्वजनिक धन के रिसाव को रोकने, निवासियों के रहने में आसानी को बढ़ावा देने और उनके लिए सेवाओं तक बेहतर पहुंच को सक्षम करके आधार प्रमाणीकरण की अनुमति दे सकती है। ” यह एक स्वैच्छिक आधार पर होगा। ऐसा अधिसूचना में कहा गया है।

हालांकि 2018 में परिवहन मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस के आवेदकों के लिए आधार प्रमाण के रूप में आधार को अनिवार्य बनाने का फैसला किया था, इसे सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हटा दिया गया था, जिसने फैसला सुनाया था कि आधार का अनिवार्य उपयोग सरकारी लाभों को छोड़कर अन्य सेवाओं के लिए लागू नहीं होगा।