देश की पहली महिला शहीद अफसर, ऐसे जान कुर्बान की थीं किरण

Rajsthan News

आज हम आपको एक ऐसी महिला सैनिक बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने अपने परिवार को छोड़कर अपने देश के लिए आर्मी जॉइन की और फिर शहीद हो गईं। हम बात कर रहे है किरण शेखावत की जो कि देश की पहली ऐसी महिला है जिन्हें देश के लिए शहीद होने का सबसे पहला गौरव हासिल हुआ है। किरण शेखावत ड्यूटी पर रहते हुए शहीद होने वाली भारत की पहली महिला है जो कि मात्र 27 वर्ष की उम्र में शहीद हो गई।

शहीद किरण शेखावट का जन्म राजस्थान के झुंझुनू जिले की धरती पर हुआ जो देश में सर्वाधिक सैनिक देने के लिए जाना जाता है। शहीद किरण शेखावट का जन्म 1 मई 1988 को राजस्थान के झुंझुनू जिले की खेतड़ी तहसील के सेफरागुवार गांव में हुआ।

उनके पिता का नाम विजेंद्र सिंह है। किरण बचपन से ही सेना में जाकर देश की सेवा करना चाहती थी। उनकी शादी हरियाणा के मेवात के गांव कुरथला के विवेक के साथ हुई जो खुद नौसेना में लेफ्टिनेंट है।

उन्होंने 26 जनवरी 2015 को गणतंत्र दिवस परेड में राजपथ पर नौसेना की पहली महिला टुकड़ी का नेतृत्व कर इतिहास रचा था। जिसके बाद वह देश भर में लोकप्रिय हो गई थी।

Read More Best blend of healthy lifestyle in modern society

शहीद किरण शेखावट की ड्यूटी गोवा में डोर्नियर विमान में थी जो कि 24 मार्च 2015 की रात को अचानक दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस दुखद हादसे में किरण शेखावत शहीद हो गयी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here